हिंदी संस्थायें

हृदय की कोई भाषा नहीं है, हृदय-हृदय से बातचीत करता है और हिन्दी हृदय की भाषा है-महात्मा गांधी 

हिंदी संस्थायें

हिन्दी और संस्कृत में उच्च स्तरीय शोध को बढ़ावा देने के उद्देश्य से समिति दो शोध केन्द्रों का संचालन करती है. समिति के ये दोनों शोध केन्द्र देवी अहिला विश्वविद्यालय इंदौर से संबद्ध एवं मान्यता प्राप्त है.शोध विद्यार्थियों के सन्दर्भ के लिए समिति का विशाल पुस्तकालय खुला है जिसमे हिन्दी की लगभग २५ हजार किताबो का संग्रह है इसी तरह यहाँ संस्कृत की भी हजारों किताबे है.

डा.परमेश्वरदत्त शर्मा शोध संस्थान (http://samitishodh.blogspot.com/)


संस्कृत शोध संस्था (http://www.sanskritshodh.org/)