नेट पर हिंदी

हृदय की कोई भाषा नहीं है, हृदय-हृदय से बातचीत करता है और हिन्दी हृदय की भाषा है-महात्मा गांधी 

नेट पर हिंदी

अभी तक लोग ये मानते थे की इंटरनेट सिर्फ उन लोगो के लिए है जो अंगरेजी जानते और समझते है लेकिन पिछले कुछ सालो में नेट का द्रश्य बिलकुल बदल गया है.

 

अब हिन्दी जानने और समझाने वाले लोगो के लिए सूचना के इस संसार में काफी कुछ है. ये साईट नेट पर हिन्दी का एक ऐसा प्रवेश द्वार है जहा हिन्दी में किसी भी विषय के बारे प्रचुर सामग्री उपलब्ध है. (www.hindionnet.com)

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति, राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार-प्रसार हेतु कार्यरत देश की प्राचीनतम और शीर्षस्थ संस्थाओं में से एक है। सारे देश में राष्ट्रभाषा हिन्दी का प्रचार-प्रसार कर देशवासियों में सामाजिक और राष्ट्रीय चेतना जागृत करने के उद्वेश्य से समिति की स्थापना 29 जुलाई 1910 को इन्दौर में हुई थी।

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति
११, रवीन्द्रनाथ टैगोर मार्ग
इन्दौर - ४५२००१
(म. प्र.) 

फोन :०७३१ - २५१६६५७

फैक्स :०७३१ – २५२९५११

​ईमेल द्वारा संपर्क में रहें