विशिष्ट आयोजन

वर्तमान सन्दर्भो में समिति, हिन्दी के प्रसार के साथ साथ सभी भारतीय भाषाओ के बीच सम्वाद प्रक्रिया आरम्भ कर भाषायी समन्वयन तथा सूचना तकनीक के क्षेत्र में हिन्दी के प्रयोग को बढावा देने की दिशा में काम कर रही है। इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु समिति ने  कई कार्यशालाए आयोजित की है।

हिन्दी विद्यापीठ की स्थापना सन्‌ १९४० में

 

 

सन्‌ १९२६ में समिति ने हिन्दी विद्यापीठ की स्थापना की। इस विद्यापीठ के माध्यम से समिति ने कई वर्षों तक हिन्दी शिक्षण एवं प्रशिक्षण का कार्य किया. विद्यापीठ से निकले कई विद्यार्थियों ने हिन्दी के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धिया हासिल की. समिति में इस विद्यापीठ की स्थापना का श्रेय पं.श्रीनिवास चतुर्वेदी को जाता है। वे ही इस विद्यापीठ के पहले अधिष्ठाता बने । उनके अलावा पण्डित कमलाद्गांकर मिश्र और वीणा के सम्पादक पं.कालिकाप्रसाद दीक्षित कुसमाकर ने भी विद्यापीठ की स्थापना और संचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सन्‌ १९४८ में इसका नामकरण समिति के प्रेरणा पुरुष गांधीजी के नाम पर किया गया।