विशिष्ट आयोजन

वर्तमान सन्दर्भो में समिति, हिन्दी के प्रसार के साथ साथ सभी भारतीय भाषाओ के बीच सम्वाद प्रक्रिया आरम्भ कर भाषायी समन्वयन तथा सूचना तकनीक के क्षेत्र में हिन्दी के प्रयोग को बढावा देने की दिशा में काम कर रही है। इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु समिति ने  कई कार्यशालाए आयोजित की है।

केन्द्रीय बजट पर संगोष्ठी

 

 

आर्थिक विषयों पर चिन्तन को बढ़ावा देने के उद्देश्य  से केन्द्रीय बजट के आने के पूर्व और आने के बाद समसामयिक केन्द्र हमेशा संगोष्ठियों का आयोजन करता रहा है। वर्ष २००२ के केन्द्रीय बजट पर आयोजित संगोष्ठी को दूरदर्द्गान पर बजट चर्चा के सूत्रधार एवं वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव ने संबोधित किया। श्री देव ने कहा कि हमारी जमीन की उत्पादन क्षमता निरंतर घटती जा रही है। इससे कृषि पर आधारित उद्योगों की दशा खराब हो रही है। अतः हमें कृषि में निवेश बढ़ाना  होगा। तभी हम कृषि प्रधान देद्गा में विकास देख सकते हैं। संगोष्ठी में प्रसिद्ध अर्थशास्त्री डॉ.जयंतीलाल भंडारी ने वैश्र्वीकरण को बढावा देने की बात पर जोर देते हुए कहा कि हमें आर्थिक विकास के लिए वैश्र्वीकरण को बढावा देना होगा॥ संगोष्ठी को वरिष्ठ कर सलाहकार सुभाष देशपांडे ने भी संबोधित किया।

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति, राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार-प्रसार हेतु कार्यरत देश की प्राचीनतम और शीर्षस्थ संस्थाओं में से एक है। सारे देश में राष्ट्रभाषा हिन्दी का प्रचार-प्रसार कर देशवासियों में सामाजिक और राष्ट्रीय चेतना जागृत करने के उद्वेश्य से समिति की स्थापना 29 जुलाई 1910 को इन्दौर में हुई थी।

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति
११, रवीन्द्रनाथ टैगोर मार्ग
इन्दौर - ४५२००१
(म. प्र.) 

फोन :०७३१ - २५१६६५७

फैक्स :०७३१ – २५२९५११

​ईमेल द्वारा संपर्क में रहें