श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति, राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार-प्रसार हेतु कार्यरत देश की प्राचीनतम और शीर्षस्थ संस्थाओं में से एक है। सारे देश में राष्ट्रभाषा हिन्दी का प्रचार-प्रसार कर देशवासियों में सामाजिक और राष्ट्रीय चेतना जागृत करने के उद्वेश्य से समिति की स्थापना 29 जुलाई 1910 को इन्दौर में हुई थी।

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति
११, रवीन्द्रनाथ टैगोर मार्ग
इन्दौर - ४५२००१
(म. प्र.) 

फोन :०७३१ - २५१६६५७

फैक्स :०७३१ – २५२९५११

​ईमेल द्वारा संपर्क में रहें 

विशिष्ट आयोजन

वर्तमान सन्दर्भो में समिति, हिन्दी के प्रसार के साथ साथ सभी भारतीय भाषाओ के बीच सम्वाद प्रक्रिया आरम्भ कर भाषायी समन्वयन तथा सूचना तकनीक के क्षेत्र में हिन्दी के प्रयोग को बढावा देने की दिशा में काम कर रही है। इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु समिति ने  कई कार्यशालाए आयोजित की है।

भैयाजी शम्भूनाथजी चतुर्वेदी स्मृति व्याख्यानमाला -सन्‌ १९९१ से निरन्तर

 

 

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति इन्दौर और चतुर्वेदी परिवार संयुक्त रूप से स्व. पं.शम्भूनाथ चतुर्वेदीजी की स्मृति में सन्‌ १९९१ से हिन्दी में व्याखयानमाला का आयोजन कर रहे हैं। इस वार्षिक आयोजन का मुखय उद्देद्गय जनजीवन से जुड़ी सामयिक समस्याओं के प्रति लोगों की अभिरूचि और हिन्दी भाषा और संस्कृति के प्रति चेतना जागृत करना है।
व्याख्यानमाला के विषय एवं वक्ताओं का विवरण....

१९९१ -  विषय :स्व. पण्डितद्गाम्भूनाथ जी चतुर्वेदी का व्यक्तित्व व कृतित्व-एक श्रद्धांजलि
वक्ता : न्यायमूर्ति गोवर्धनलाल जी ओझा – विशेष अतिथि : डॉ.पी.डी.शर्मा,समिति के प्रधानमंत्री, श्रीमती सुमित्रा महाजन ,सांसद
 
१९९२ - विषय : विधि के क्षेत्र में हिन्दी का प्रयोग
वक्ता : श्री बृजकिशोर शर्मा ,अति. विधि सचिव , भारत सरकार विशेष अतिथि : न्यायमूर्ति वी. एस. कोकजे , श्री आनन्द मोहनजी माथुर,  महाधिवक्ता, म. प्र.

१९९३ - विषय : उदारीकृत अर्थनीति मेंप्रशासन की भूमिका
वक्ता : डॉ. उमरावसिंह चौघरी, कुलपति देवी अहिल्या वि. वि. इन्दौर
विशेष अतिथि: न्यायमूर्ति रामदयाल शुक्ल, विधि वाचस्पति 

१९९४ - विषय : हिन्दूत्व सांस्कृतिक राष्ट्र की अवधारणा
वक्ता : डॉ. सूर्यकांत बाली , संपादक नवभारत टाइम्स
विशेष अतिथि: न्यायमूर्ति गोवर्धनलाल ओझा 

१९९५ - विषय : वाल्मीकि के राम वक्ता : डॉ. पांडुरंगराव, निदेशक भारतीय ज्ञान पीठ
विशेष अतिथि: न्यायमूर्ति गोवर्धनलाल ओझा, प्रो.ए.ए.अब्बासी,कुलपति,देवी अहिल्या वि. वि. इन्दौर

१९९६ - विषय : संदर्भहीन पत्रकारिता और समाज
वक्ता : डॉ. नामवरसिंह,प्रसिद्ध साहित्यकार,चिंतक और विचारक
विशेष अतिथि: न्यायमूर्ति रामदयाल शुक्ला एवं न्यायमूर्ति गोवर्धनलाल ओझा

१९९७ - विषय : बदलते जीवनमूल्य और साहित्य
वक्ता : डॉ. राजेन्द्र अवस्थी,सम्पादक कादम्बनी
विशेष अतिथि: डॉ. पवनकुमार मिश्र, प्राध्यापक हिन्दी 

१९९८ - विषय : संयुक्त परिवार : बदलते परिप्रेक्ष्य में
वक्ता : डॉ. कन्हैयालाल नंदन, वरिष्ठ पत्रकार
विशेष अतिथि: न्यायमूर्ति आशाराम तिवारी एवं न्यायमूर्ति गोवर्धनलाल ओझा 

१९९९ - विषय : रामचरितमानस : आज के परिवार और राजनीतिक संदर्भ में
वक्ता : श्री अवधनारायण मुद्‌गल,  प्रसिद्ध लेखक
विशेष अतिथि:: डॉ. विष्णुदत्त नागर, अर्थशास्त्री

२०००
विषय : २१ वीं सदी में मीडिया का स्वरूप एवं उसकी भूमिका
वक्ता : श्री अजय उपाध्याय ,दैनिक हिन्दुस्तान के सम्पादक
विशेष अतिथि:: श्री रामशरण जोशी

२००१ - विषय : विज्ञान और सर्जना
वक्ता : पद्‌मभूषण पं. विद्यानिवास मिश्र ,चिंतक एवं शिक्षाविद
विशेष अतिथि:: श्री मनोज श्रीवास्तव , जिलाधीश इन्दौर:

२००२
विषय : एकात्म मानवतावाद वक्ता : डॉ.महेद्गाचन्द्र शर्मा, सांसद (राज्य सभा)
विशेष अतिथि: श्रीमती सुमित्रा महाजन केन्द्रीय राज्यमंत्री,भारत सरकार

२००३ - विषय : रामकथा मेरी दृष्टी में वक्ता : डॉ.नरेन्द्र कोहली,रचनाकार 
विशेष अतिथि:: डॉ. राजेन्द्र मिश्र,साहित्यकार

२००४ - विषय :भारतीय संस्कृति में समन्वय की परम्परा
वक्ता : श्री कमलेश्वर,साहित्यकार विशेष अतिथि: श्री प्रभाष जोशी, वरिष्ठ पत्रकार

२००५ - विषय : विश्व परिप्रेक्ष्य में भारतीय संस्कृति
वक्ता : श्री हिमाशु जोशी ,प्रसिद्ध साहित्यकार
विद्गोष अतिथि : श्री एन.एस.आजाद,अध्यक्ष,मानव अधिकार आयोग,म. प्र.

HOURS

SUNDAY SERVICES

Every Sunday from 6:00pm to 8:00pm


CHILDREN'S SERVICES
Every Wednesday from 
3:00pm to 4:00pm