श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति, राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार-प्रसार हेतु कार्यरत देश की प्राचीनतम और शीर्षस्थ संस्थाओं में से एक है। सारे देश में राष्ट्रभाषा हिन्दी का प्रचार-प्रसार कर देशवासियों में सामाजिक और राष्ट्रीय चेतना जागृत करने के उद्वेश्य से समिति की स्थापना 29 जुलाई 1910 को इन्दौर में हुई थी।

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति
११, रवीन्द्रनाथ टैगोर मार्ग
इन्दौर - ४५२००१
(म. प्र.) 

फोन :०७३१ - २५१६६५७

फैक्स :०७३१ – २५२९५११

​ईमेल द्वारा संपर्क में रहें 

समिति समाचार फरवरी २०१९

समिति समाचार फरवरी २०१९

समिति के इतिहास पुरुष को श्रद्धांजलि

 

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति के पूर्व प्रधानमंत्री एवं वर्तमान में सभापति-न्यासी प्रो. वेंकटाचार्य स्वामी का 21 जनवरी 2019 को 93 वर्ष की अवस्था में देवलोकगमन हो गया। उल्लेखनीय है कि प्रो. स्वामी महाविद्यालय के प्राचार्य पद से सेवानिवृत्त हुए थे। स्वामी जी का समिति से करीब 70 वर्षों से अधिक का संबंध रहा। वह यहां विभिन्न विभागों के मंत्री रहे तथा ‘वीणा’ पत्रिका के प्रधान सम्पादक भी। एक शिक्षाविद्, कर्मठ, समिति के प्रति समर्पित व्यक्तित्व के अवसान से समिति परिवार के साथ तमाम सुधीजनों को बहुत दु:ख हुआ है। शोक स्वरूप समिति के समस्त विभाग दिनांक 21 जनवरी को बंद रहे। दिनांक 23 जनवरी को स्वामी जी के कृतित्व एवं व्यक्तित्व पर समिति के प्रधानमंत्री प्रो. सूर्यप्रकाश चतुर्वेदी के अलावा सूर्यकान्त नागर, अरविन्द जवलेकर, अरविन्द ओझा, राकेश शर्मा, हरेराम वाजपेयी एवं मोहन रावल ने विचार व्यक्त किए। सर्वश्री सत्यनारायण सत्तन (सभापति), डॉ. पद्मा सिंह, राजेश शुक्ला, सदाशिव कौतुक, प्रदीप नवीन, सन्तोष मोहन्ती, डॉ. गोपाल दत्त ओझा, कमलेश पाण्डेय, विनेश खण्डेलवाल, डॉ. राजेन्द्र मिश्र, शिरीष मुधोलकर, अनिल माथुर, सुरेन्द्र माथुर, संजीव कुमार, डॉ. विजय सिंह, प्रभु त्रिवेदी, कमलेश पांडे सचिन तिवारी, हेमेन्द्र मोदी, जुगलकिशोर बैरागी, उमेश पारिख, नारायण जोशी, राजेश कुमायू, अनिल कटारे, विजय आदि उपस्थित सुधीजनों ने 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धासुमन अर्पित किए। श्री कैलाशचन्द्र पंत, राकेश मित्तल, नरहरि पटेल, रवीन्द्र पहलावन, डॉ. छाया भटंगे, चन्द्रभान भारद्वाज, डॉ. शशिकला अवस्थी, डॉ. नीरज दीप सिंह, मुकेश इन्दौरी, चारु सक्सेना, भारत सक्सेना, त्रिपुरारीलाल शर्मा, डॉ. जवाहर चौधरी, सत्यनारायण पंचोली, जगदीश, डॉ. चन्द्रकिरण अग्निहोत्री आदि ने अपने शोक संदेश प्रेषित किए। ध्यातव्य है कि दिनांक 8 मार्च, 1926 को हैदराबाद में जन्मे प्रो. स्वामी जी का मालवांचल प्रमुख कार्यक्षेत्र रहा।

 

स्वामीजी के पौत्र के श्रद्धा भाव पिताजी, आपका राजा बेटा आपका जीवन ही रहा शिक्षा मेरी आदर्श मेरा आप के ही पद चिह्नों से मेरा पथ प्रदर्शित आप ही गुरु मेरे, आप ही भगवान भी आप ही पालक मेरे, आप ही पहचान भी बचपन में लाड़, पढ़ाई की फटकार पर उसमें भी ढेर सारा दुलार, वह संस्कार, व्यवहार, देना मेरे जीवन को अपार कोई भी हो बात मेरी, बिन कहे दिया मुझे हौंसला हमेशा मेरी प्रगति को तत्पर, हमेशा तैयार। आपके आशीष से ही पूर्ण होते रहे सारे काज, आपने ही है बनाया मुझे जो भी हूँ मैं आज, मन गर्वित हो जाता है, अभिमान से भर जाता है जब मेरा परिचय ऐसा होता है, यह स्वामीजी का पोता है वह गर्व वह विश्वास, ध्यान मेरा हर श्वास वह हर पल मुझे महसूस कराता कि मैं कितना खास। आपकी चिर स्मृति को प्रणाम - सोनू स्वामी

समिति परिवार की ओर से उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि।

- अरविन्द ओझा, प्रचार मंत्री

 

वीणा के सम्पादक राकेश शर्मा ‘विशिष्ट साहित्य सम्मान’से विभूषित

 

‘वीणा’ के सम्पादक एवं साहित्यकार राकेश शर्मा को उनके द्वारा लेखन, सम्पादन और भाषा के क्षेत्र में किए गए कार्यों के लिए कानपुर (उ.प्र.) की अग्रणी साहित्यिक संस्था मानस संगम ने एक भव्य समारोह में वरिष्ठ पत्रकार डॉ. अनुभव तिवारी की पावन स्मृति में ‘विशिष्ट साहित्य सम्मान’ से विभूषित किया। उन्हें यह सम्मान पश्चिम बंगाल के माननीय राज्यपाल एवं साहित्यकार श्री केसरीनाथ त्रिपाठी, उत्तरप्रदेश सरकार के खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री सत्यदेव पचौरी तथा वरिष्ठ साहित्यकार बद्रीनाथ तिवारी ने प्रदान किया। समिति परिवार की ओर से उन्हें बधाई।

- अरविन्द ओझा, प्रचारमंत्री

 

‘बस एक बार’ का लोकार्पण

 

डॉ. रवीन्द्र पहलवान की काव्य कृति ‘बस एक बार’ का लोकार्पण समिति के शिवाजी भवन में मध्यप्रदेश लेखक संघ इकाई, इन्दौर के तत्वावधान में सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि श्री सदाशिव कौतुक ने कहा - इन छोटी-छोटी कविताओं में रचनाकार ने बड़ी-बड़ी सामाजिक विद्रुपताओं को उजागर किया है। अध्यक्ष श्री सूर्यप्रकाश चतुर्वेदी ने कहा कि डॉ. पहलवान के पास शब्द और कहने का सलीका दोनो हैं। विशेष अतिथि ‘वीणा’ के सम्पादक राकेश शर्मा और प्रभु त्रिवेदी ने कविताओं पर सारगर्भित चर्चा की। संचालन संस्थान सचिव संतोष मोहंती ‘दीप’ ने एवं आभार श्री संदीप राशिनकर ने व्यक्त किया। इस अवसर पर इन्दौर शहर के अनेक गणमान्य साहित्यकार व साहित्य प्रेम उपस्थित थे।

- अरविन्द ओझा, प्रचारमंत्री

 

श्री सदाशिव कौतुक को ‘अक्षर आदित्य’ सम्मान

 

वरिष्ठ साहित्यकार श्री सदाशिव कौतुक को मध्यप्रदेश लेखक संघ का 2018 का सर्वोच्च 25वाँ ‘अक्षर आदित्य सम्मान’ अनवरत साहित्य साधना हेतु प्रदान किया गया। इस अवसर पर साहित्यकार डॉ. शरद पगारे, प्रतापसिंह सोढ़ी, डॉ. रवीन्द्र पहलवान, संदीप राशिनकर, प्रदीप नवीन, राजेश राठी, प्रदीप जोशी, प्रभु त्रिवेदी सहित बाईस साहित्यकार हिन्दी भवन सभागार भोपाल में उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मध्यप्रदेश लेखक संघ के संस्थापक श्री बटुक चतुर्वेदी, मुख्य अतिथि सप्रे संग्रहालय के संस्थापक पद्मश्री विजयदत्त श्रीधर जी तथा सारस्वत अतिथि कवि एवं आलोचक डॉ. रमेश दवे ने कार्यक्रम को गरिमा प्रदान की।

 

राष्ट्रपिता को श्रद्धासुमन अर्पित

 

30 जनवरी महात्मा गाँधी के निर्वाण दिवस पर समिति ने शिवाजी सभागार में सायं 6 बजे प्रार्थना सभा का आयोजन किया, जिसमें बापू की मूर्ति को सूत की माला अर्पित करते हुए पुष्पांजलि दी गई। इस अवसर पर गाँधी जी की समिति की दोनों यात्राओं क्रमश: 1918 एवं 1935 के संदर्भ साहित्य मंत्री हरेराम वाजपेयी ने बताया। लिली डावर द्वारा वैष्णव जन तो तेने कहिए... की सस्वर प्रस्तुति दी गई। इस अवसर पर सर्वश्री मुकुन्द कुलकर्णी, अरविन्द पोरवाल, डॉ. जवाहर चौधरी, प्रदीप नवीन, अनिल भौजे, श्याम पाण्डेय, अतुल कर्णिक, आलोक खरे, शफी शेख, श्री मधु आदि सुधीजनों के साथ समिति परिवार के सदस्य उपस्थित थे। इसके पूर्व सेवा सुरभि, संगीत गुरुकुल एवं समिति के सदस्यों ने प्रात: 8 बजे बापू के प्रिय भजन गाते हुए एक प्रभात फेरी समिति प्रांगण से रीगल चौराहे पर स्थित महात्मा गाँधी की प्रतिमा तक निकाली। और अंत में आभार समिति के प्रचारमंत्री अरविंद ओझा ने व्यक्त किया।

 

70वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण

 

70वें गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर समिति प्रांगण में ध्वजारोहण सम्पन्न हुआ। राष्ट्रगान के पश्चात समिति के प्रधानमंत्री प्रोफेसर सूर्यप्रकाश चतुर्वेदी ने कहा कि हम सभी को अपने कार्यों को निष्ठापूर्वक सम्पन्न करना चाहिए। ऐसा करते हुए हम राष्ट्र और समाज की सेवा कर सकते हैं। इस अवसर पर सर्वश्री डॉ. विजय सिंह, दिनेश तिवारी, जवाहर चौधरी, राजेश शुक्ला, सूर्यकान्त नागर, त्रिपुरारी लाल शर्मा, डॉ. गोपालदत्त ओझा, डॉ. पद्मा सिंह, देवकृष्ण साँखला, प्रदीप नवीन, सदाशिव कौतुक, अरविन्द जवलेकर, राकेश शर्मा, अरविन्द ओझा, राजेश शर्मा, नारायण जोशी, कमलेश पाण्डे, छोटू भारती, जुगलकिशोर बैरागी, राजेश कुमायू, अनिल और विजय सहित शहर के अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे।

 

श्रद्धांजलि...

 

श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति, इन्दौर के आजीवन सदस्य श्री रामवल्लभ गुप्ता (जाखेटिया) का देवलोकगमन दिनांक 07 जनवरी, 2019 को हो गया है। श्री रामवल्लभजी माहेश्वरी समाज के पूर्व अध्यक्ष एवं माहेश्वरी समाज विवाह प्रकोष्ठ के संस्थापक व वरिष्ठ समाज सेवी थे। समिति परिवार की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि।

- अरविन्द ओझा, प्रचारमंत्री