विशिष्ट आयोजन
देशी रियासतों में हिन्दी के प्रयोग के लिए अभियान सन्‌ १९१५ में। Back

समिति के संस्थापकों का मूल उद्देश्य हिन्दी को उसकी गरिमा के अनुरूप यथोचित सम्मान दिलाना था.पुस्तकालय के रूप में समिति की स्थापना के तत्काल बाद समिति के मनीषी अपने इस उद्देश्य में जुट गए थे.समिति के सदस्यों का न सिर्फ इंदौर बल्कि आसपास की रियासतों में भी काफी अच्छा प्रभाव था.श्री माधवराव किबे, सर सिरेमल बापना, पं.कृष्णानंद मिश्र, बाबू गोपालचन्द्र मुखर्जी, पं.बनारसी दास चतुर्वेदी, डॉ.सरजूप्रसाद तिवारी, लुकमानभाई जैन और सेठ लालचंद सेठी जेसे लोगो ने अपने प्रभाव का उपयोग इन रियासतों में हिन्दी को राजकीय भाषा बनवाने के उद्देश्य से किया .

समिति ने देशी रियासतों और राज्यों में हिन्दी के प्रचार के लिए एक व्यापक जन-आन्दोलन खड़ा किया. डॉं. तिवारी और उनके सहयोगियों के प्रयास से रीवा, दतिया, झाबुआ, देवास, सैलाना, रतलाम, पन्ना, चरखारी, अलीराजपुर, राजगढ़, प्रतापगढ़, नरसिंहगढ़, झालावाड़, डूंगरपुर, खिलचीपुर, मैहर, धार और बड़वानी सहित मध्यभारत और राजस्थान की लगभग तीस रियासतों के राजाओं ने हिन्दी को अपने राज्य मे राजकाज की भाषा घोषित कर दिया था. इनमे से कई राजाओ ने समिति के संरक्षक का दायित्व भी स्वीकार किया था।

Bookmark and Share

शताब्दी महोत्सव
फोटो और वीडियो